Monthly Archive: November 2018

मैं अँधेरा भी हूँ मैं उजाला भी हूँ 0

मैं अँधेरा भी हूँ मैं उजाला भी हूँ

मैं अँधेरा भी हूँ मैं उजाला भी हूँ अपने सारे परिवार का मैं निवाला भी हूँ मैं रास्ता दिखाने वाली बाती भी हूँ इक दूजे के मन की थाह बताती पाती भी हूँ जब थकान...